Lockdown: बेरोजगारों को दोहरी मार, एक तरफ किराया दूसरी तरफ कोचिंग की फीस

0
178

जयपुर। Lockdown के चलते पिछले दो महीनों से प्रदेश के बेरोजगारों के सामने एक बड़ा संकट खड़ा हो गया है। ना तो वह लॉक डाउन में किसी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर पाएं है और ना किराए के कमरों का भाड़ा दे पाएं है। आर्थिक संकट के चलते बेरोजगार मकान किराया देने में सक्षम नहीं है। लॉक डाउन के चलते मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से बेरोजगारों ने मार्मिक अपील की है।

प्रदेश के बेरोजगारों ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से आग्रह करते हुए कहा है कि लॉक डाउन के दौरान की अवधि में मकान किराया माफ किया जाएं। और साथ मे कोचिंग संस्थानों में जमा करवाई गई फीस को उन्हें वापस दिलाई जाएं।

राजस्थान बेरोजगार एकीकृत महासंघ के प्रवक्ता उपेन यादव ने बताया कि ‘लॉक डाउन के चलते प्रदेश के बेरोजगारों को अपना सामान मकानों में छोड़कर अपने घर जाना पड़ा, लेकिन अब मकान मालिक फोन पर किराए का दबाव बना रहे हैं, साथ ही किराया न देने पर सामान जब्त करने की बात कह रहे हैं। वहीं, दूसरी तरफ कोचिंग संस्थानों में जमा कराई गई फीस, उसको लेकर भी स्थिति साफ नहीं है, ना किसी संस्थान ने ऑनलाइन क्लास करवाई और ना ही आने वाले समय मे भुगतान की गई राशि में कोचिंग करवाने की बात कहीं जा रही है। ऐसे में बेरोजगार अब कोचिंग संस्थानों से जमा कराई गई फीस को वापस मांग रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here