राजस्थान सरकार बेटियों को दे रही 50 हजार रुपये, आप भी ले सकते हैं लाभ

0
139
मुख्यमंत्री राजश्री योजना

जयपुर। 1 जुलाई 2016 को राजस्थान सरकार द्वारा मुख्यमंत्री राजश्री योजना की शुरुआत की गई थी। इस योजना के तहत सरकार बेटी की देखभाल के लिए 50 हजार रुपये की आर्थिक मदद करती है। इस योजना का मुख उद्देश्य प्रदेश में बालिकाओं के जन्म को प्रोत्साहित करना है और साथ में ही कोई भी अपनी बेटी को बोझ न समझे बल्कि उसके उज्ज्वल भविष्य के बारे में सोचे। मुख्यमंत्री राजश्री योजना के तहत बालिकाओं को शिक्षित व सशक्त बनाने का लक्ष्य रखा गया है। अब तक राजस्थान में इस योजना से लगभग 15 लाख अभिभावक लाभ ले चुके हैं। 1 जुलाई 2016 या उसके बाद जन्म लेने वाली बालिकाएं इस योजना में लाभ लेने के लिए पात्र हैं।

यह भी पढें :- अब विकलांगों को भी मिलेंगी हर महीने 500 रुपये की पेंशन, ऐसे करे आवेदन

50 हजार रुपये की आर्थिक मदद

मुख्यमंत्री राजश्री योजना के तहत राजस्थान सरकार बेटी के जन्म से लेकर 12वीं तक की पढ़ाई एवं स्वास्थ्य की देखभाल के लिए 50 हजार रुपये की आर्थिक मदद अभिभावकों को प्रदान की जाती है। यह राशि अलग-अलग चरणों में प्रदान की जाती है। पहली किस्त बेटी के जन्म के समय 2500 रुपये दिए जाते हैं। इसके बाद 1 वर्ष का टीकाकरण होने के बाद 2500 रुपये, राजकीय विद्यालय की कक्षा पहली में प्रवेश लेने पर 4000 रुपये, राजकीय विद्यालय की कक्षा 6 में प्रवेश लेने पर 5000 रुपये, कक्षा 10वीं में प्रवेश पर 11000 रुपये और 12वीं उत्तीर्ण करने पर 25000 रुपये की राशि प्रदान की जाती है।

कौन-कौन ले सकते हैं लाभ

इस योजना में पहली दो क़िस्त केवल उन बालिकाओं को दी जाएगी, जिसका जन्म किसी सरकारी अस्पताल एवं जननी सुरक्षा योजना के साथ पंजीकृत निजी अस्पताल में हुआ है। इस योजना की खास बात है कि माता-पिता की तीसरी सन्तान होने पर भी बालिका को दो क़िस्त का लाभ मिलेगा। मुख्यमंत्री राजश्री योजना का लाभ लाभार्थी को सीधे उसके बैंक एकाउंट में ट्रांसफर किया जाता है।

ऐसे करे आवेदन

इस योजना के तहत आवेदन करने के लिए सरकारी अस्पताल या जननी सुरक्षा योजना से पंजीकृत चिकित्सा संस्थान से संपर्क करना होगा। इसके अलावा अपने क्षेत्र के चिकित्सा अधिकारी, कलेक्टर कार्यालय, जिला परिषद या ग्राम पंचायत से भी संपर्क किया जा सकता है। लाभ लेने के लिए महिला गर्भवती प्रसव पूर्व जांच के दौरान भामाशाह कार्ड से जुड़ा हुआ होना चाहिए। बैंक खाते का विवरण नजदीकी केंद्र पर ANM, आशा या आंगनबाड़ी कार्यकर्ता अथवा राजकीय चिकित्सा संस्थान को उपलब्ध करवाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here