दुनियाभर में भारत की कोरोना रफ्तार सबसे तेज, बिगड़ रहे हालात

0
242

नई दिल्ली। देश मे करीब ढाई महीने से चल रहे लॉकडाउन के बाद धीरे-धीरे दी गई ढील के बीच देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 2.67 लाख पार पहुंच चुकी है। देश में रोज़ाना करीब 10 हजार संक्रमित मिल रहे हैं। ऐसे में पिछले दो सप्ताह के आकड़ो के हिसाब से देखा जाए तो कोरोना वायरस के संक्रमण में सबसे ज्यादा प्रभावित शीर्ष 5 देशों में अमेरिका, रूस और ब्रिटेन में घटते संक्रमण के मुकाबले भारत और ब्राजील में इसकी गति बहुत तेज हो रही है। सबसे ज्यादा चिंता भारत की है, जहाँ दो सप्ताह से ब्राजील से पीछे रहने के बाद इस सप्ताह संक्रमण की दर उससे आगे निकल गई है।

जॉन हॉकिन्स यूनिवर्सिटी के कोरोना सेंटर के मुताबिक, इस जानलेवा महामारी से वैश्विक स्तर पर 71,38,885 लोग पीड़ित हो चुके हैं। जिसमें सबसे ज्यादा पीड़ित लोग अमेरिका में है, जो विश्व में पहले स्थान पर है। अमेरिका में 20 लाख से ज्यादा मामले मिल चुके हैं।

वहीं 7 लाख मामले ब्राजील में, 5 लाख मामले रूस में है। भारत फ़िलहाल पाचवें नम्बर पर चल रहा है। अगले 3 दिनों में करीब 2.88 लाख मामलों में चौथे स्थान पर चल रहे ब्रिटेन को पछाड़ देने की सम्भावना है।

आकड़ो के हिसाब से देखे तो, दो सप्ताह पहले भारत और ब्राजील में नए मामले मिलने की दर 5 फीसदी से ज्यादा थी, वहीं अन्य तीन देशों में यह डर 2 फीसदी के आसपास थी। दो सप्ताह में वही दर भारत और ब्राजील में घटकर 5 फीसदी से नीचे आई हैं, लेकिन अब 4 फीसदी से ज्यादा की गति से नए मामले मिल रहे हैं। इसके उल्टे अन्य तीन देशों में यह दर घटकर 2 फीसदी नीचे पहुंच चुकी है।

भारत में संक्रमण की दर जहाँ दो सप्ताह पहले 5.6 फीसदी थी, वहीं ब्राजील में उस समय 5.4 फीसदी से बढ़ रहा था। लेकिन अब वो दर घटकर 4.3 फीसदी रह गई है। वहीं भारत में घटने की बजाय नए संक्रमण की दर ब्राजील से ज्यादा 4.4 फीसदी आंकी जा रही है।

भारत में भले ही लॉकडाउन के पहले चरण में कम जांच होने के कारण कम संक्रमित लोग मिल रहे थे, लेकिन अप्रैल महीने के पहले सप्ताह में ही नए संक्रमण मिलने की दर में अमेरिका और ब्रिटेन को पीछे छोड़ दिया था। इसके बाद रूस से भी मई के मध्य में आगे बढ़ गया और इसके बाद लगातार रफ्तार तेज हो रही हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here