अगर नहीं किया ये काम तो बंद हो सकता है आपका राशन, 31 जुलाई डेडलाइन

0
263
Rajasthan Rashan Card

जयपुर। राजस्थान में चार साल बाद प्रशासनिक ढिलाई के चलते एनएफएसए (NFSA) में शामिल 30 फीसदी लाभार्थी आधार से लिंक नहीं हो पाए, लेकिन अब राज्य सरकार ने राशन कार्ड को बिना आधार लिंक कराए गेंहू ले रहे हैं, उन लाभार्थियों पर एनएफएसए शिकंजा कस दिया है। राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना (NFSA) से जुड़े उन लाभार्थियों को गेहूं मिलना बंद हो सकता है, जिसका राशनकार्ड अब तक आधार कार्ड से लिंक नहीं है। राशन कार्ड को आधार कार्ड के बिना लिंक करवाए लम्बे समय तक राशन उठा रहे लाभार्थियों को सरकार ने 31 जुलाई तक का समय दिया है। जिसके बाद राशन कार्ड यदि आधार से लिंक नहीं हुआ तो, उस लाभार्थी को गेहूं और अन्य लाभ नहीं मिलेगा।

31 जुलाई डेडलाइन, 1.62 करोड़ लाभार्थी अब तक आधार से लिंक नहीं

यदि समय रहते एनएफएसए के लाभार्थियों ने राशन कार्ड में जुड़े सभी सदस्यों को आधार कार्ड से लिंक नहीं कराया तो उनके राशन पर तलवार लटक सकती है। कालाबाजारी रोकने के लिए अब राशन कार्ड को आधार कार्ड से लिंक करना जरूरी होगा। खाद्य विभाग ने 31 जुलाई तक का समय दिया है, उसके बाद यदि आधार लिंक नहीं हुआ तो उस लाभार्थी को गेहूं या अन्य लाभ नहीं मिलेगा। खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग के एक जारी आदेश के मुताबिक प्रदेश में 1.62 करोड़ लाभार्थी ऐसे है, जिसका आधार नम्बर राशन कार्ड से लिंक नहीं है। विभाग को अंदेशा है कि इनमें से कई मामले फर्जी निकल सकते हैं अथार्त विभाग का मानना है कि इनमें से कई लोग ऐसे है जो आज अस्तित्व में नहीं है, लेकिन उसके बावजूद उनका नाम राशन कार्ड में जोड़कर फर्जी तरीके से राशन उठा रहे हैं। ऐसे फर्जीवाड़े को रोकने के लिए प्रशासन ने राशन कार्ड को आधार से लिंक करवाने की अंतिम तिथि 31 जुलाई निर्धारित की है। लाभार्थी 31 जुलाई तक ई – मित्र अथवा ग्राम के पटवारी या सचिव के स्तर पर आधार को राशन कार्ड से लिंक करवा सकते हैं।

राशन कार्ड के प्रत्येक सदस्य का नाम आधार से लिंक होगा तो फायदा यह होगा कि स्वयं के हिस्से का गेहूं कालाबाजारी में नहीं जाएगा। गरीबों को सस्ती दर पर गेहूं की कालाबाजारी से आम आदमी को पर मंहगाई का बोझ पड़ता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here